सदर अस्पताल की लापरवाही ने ली नवजात की जान !

3036

सुपौल (कुमार गौतम) : सदर अस्पताल दलालों का वर्चस्व है जो प्रसव करने आई महिला को निजी क्लिनिक एवं अस्पतालों भेजने का कार्य करते है। ऐसा सदर अस्पताल में प्रसव करवाने आई रिजवान खातून एवं उनके परिजन ने आरोप लगाया है।koshixpress

प्रसव से पीड़ित चकडूमरिया पुर्नवास के निवासी रिजवान खातून के परिजन मो इरसाद एवं महुआ निवासी मो शाबिर ने बताया कि प्रसव दर्द सी पीड़िता को अन्य परिजन क्व साथ सदर अस्पताल आया तो प्रसव कक्ष में अन्य महिला का प्रसव करा रही नर्स ने पुर्जा बनवाने एवं पीड़िता को कक्ष में लगे बेड पर आने को कह अन्य महिला का प्रसव कराने में व्यस्त हो गई। जब परिजन पुर्जा बनवा कर प्रसव कक्ष आया तो वहां पहले में मौजूद डॉ नूतन वर्मा के निजी क्लिनिक पर कार्य करने वाले फूलो एवं साथ एक एम्बुलेंस का ड्राइवर ने पीड़िता को बाहर निकलते हुए परिजनों से अभी समय नही है किसी निजी क्लिनिक या अस्पताल में ले जाएं। साथ ही परिसर से बहार कर दिया। परिजन बैटरी चालित रिक्सा गाड़ी का व्यवस्था कर कहीं अन्यत्र ले जाने के लिए निकले की पीड़िता ने लड़के को जन्म दिया।koshixpress

अस्पताल परिसर में ही रिक्से पर पीड़िता ने बच्चे को जन्म दिया जिससे बच्चा नीचे गिर गया। बच्चे की नीचे गिरने से उसकी मौत हो गई। इस घटना को ले परिजन ने अस्ताल परिसर में जम के बबाल मचाया। साथ ही परिजन ने आरोप लगाया कि इस तरह के लापरवाही और प्रसव कक्ष में दलालों पर मामला फर्ज कर किया। मामले की गंभीर होते देख एसडीओ को सुचना दी गई।

मौके पर पहुँच सुपौल एसडीओ मो नदीमुल गफ्फार शिदिकी के परिजन को शांत करते हुए कहा की मामले की जाँच कर आरोपियों पर शक्त से शक्त करवाई का आस्वासन दिया। मो शिद्धिकी ने बताया की डीएस एन के चौधरी को सीसी टीवी फुटेज को देख आरोपियों पर शक्त से शक्त कारवाही करने की बात कही। साथ ही कहा कि किसी भी हाल में आरोपी बक्से नहीं जायेंगे।