नोटबंदी के छठे दिन भी लगी रही लोगों की भीड़ !

3782

सलखुआ बाजार स्थित बैंक आफ इंडिया भेलवा शाखा में बड़ा हादसा होते होते बचा
सहरसा/सिमरी बख्तियारपुर : सरकार के द्वारा देश में पांच सौ व हजार रूपये के नोट बंद करने के फैसले के कारण उत्पन्न समस्या कम होने का नाम नही ले रही है । जिले सहित सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र में बैंक खुलने के छठे दिन मंगलवार को भी सुदूर ग्रामीण क्षेत्र से लोगो का पहुंचना जारी है। सभी बैंकों में भीड़ की समस्या बनी हुई है। भीड़ की वजह से व्यपारी वर्ग भी काफी परेशानी देखी जा रही है ।koshixpress

वही मंगलवार को सलखुआ प्रखंड के मुख्य बाजार स्थित बैंक ऑफ इंडिया भेलवा शाखा में सुबह एक बड़ा हादसा होते होते बचा, जब पांच सौ व हजार के नोटों को बदलवाने के लिए आमलोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। बैंक की शाखा एक भाड़े के मकान में बीते कई वर्षों से प्रथम तल पर चल रही है। बैंक तक पहुंचने के लिए सीढ़ी है जो जर्जर अवस्था में है.इसके साथ ही बैंक के बाहर की बालकोनी भी कमजोर हो चुकी है जब मंगलवार को नोट बदलवाने की भीड़ उमड़ी तो सीढ़ी से लेकर बालकोनी तक लोगो का हुजूम उमड़ पड़ा जिससे सीढ़ी और बालकोनी के टूटने की स्थिति बन गई। जिसके बाद आनन-फानन में सलखुआ पुलिस को खबर की गई|koshixpress

तत्पश्चात सलखुआ थाना से सअनि बुलेश्वर यादव ने दल-बल के साथ पहुँच कर भीड़ को सीढ़ी से हटवाया और भीड़ को नियंत्रित किया।आज अगर समय रहते पुलिस नही पहुंचती तो बड़ा हादसा से बचा नही जा सकता था।

वही मंगलवार दिन भर सिमरी बख्तियारपुर अंतर्गत विभिन्न बैंको में उमड़ी जबरदस्त भीड़ ने अन्य दिनों का सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया.नोट बदलने के लिए सबसे ज्यादा भीड़ सिमरी बख्तियारपुर स्टेट बैंक में देखा गया.इसके अलावे स्टेशन चौक पर स्थित बैंक ऑफ इंडिया सहित मुख्य बाजार में स्थित डाकघर और कैनरा बैंक में भी भीड़ देखा गया |koshixpress

वही आरबीआई द्वारा पांच सौ व हजार रूपये के नोटों को बैंक में बदलने के लिए उपलब्ध कराया फॉर्म का फोटो स्टेट मंगलवार को भी दस रुपये में सिमरी बख्तियारपुर में बिकते हुए देखा गया.वही सिमरी बख्तियारपुर में बीते चार दिनों से नोट बदलवाने की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से ही लगभग सभी बैंकों में भीड़ उमड़ पड़ा है परंतु बख्तियारपुर थाना में फ़ोर्स की कमी की वजह से विभिन्न बैंको में आमलोगों की भीड़ को संभालना चुनौतीपूर्ण हो गया है.हर रोज बैंको में फ़ोर्स की कमी की वजह से भीड़ परेशान रहती है|koshixpress

वही शनिवार को स्टेट बैंक के नीचे हुई 53 हजार की घटना ने प्रशासनिक इंतजाम पर प्रश्न चिह्न खड़ा कर दिया है.हालाँकि, बख्तियारपुर थानाध्यक्ष उमाशंकर कामत दिनभर विभिन्न बैंकों में जा-जा कर स्थिति को कंट्रोल करते हुए दिखे.वही बीते कई दिनो से नोट बदलवाने के लिए प्रयासरत आम लोगो के लिए रविवार-सोमवार की तरह मंगलवार को एनएसयूआई द्वारा विभिन्न बैंक में चाय पानी का इंतजाम किया गया।