नोटबंदी के बाद फोटो स्टेट वालो की कट रही चांदी !

4433

2 से 10 रूपये में धड़क्ले से बेची जा रही है नोट एक्सचेंज फार्म

सहरसा/सिमरी बख्तियारपुर : गत 8 नवम्बर को नोटबंदी के बाद जहां सभी लोग नोट को बदलने के लिये परेशान नजर आ रहें है वही इस नोटबंदी के बाद फोटो स्टेट करने वालो की मानो बहार आ गई हो नोटबंदी के बाद सभी व्यवसाय प्रभावित हुआ लेकिन ये व्यवसाय करने वालो की चांदी कट रही है। बैंकों के आगे टेबूल कुर्सी लगा कर खुले आम नोट एक्सचेंज फार्म की बिक्री फोटो स्टेट करने दुकानदार कर रहें। ये फार्म दो रूपये से लेकर दस रूपये तक बेचे जा रहे है। इस ओर आज तक किसी प्रशासनिक लोगो का ध्यान नही गया है। पांच सौ व हजार रूपये के नोट बदलने के लिये बैंकों में लगने वाले एक्सचेंज फॉर्म का अभाव है.ऐसे में लोगो की परेशानी का फायदा फोटो कॉपी व स्टेशनरी दुकान वाले उठाने में लग गये है और फोटो कॉपी कर के बेच रहा है.इससे रोजाना हजारो की कमाई हो रही है और मंदी की दौर में इनकी बल्ले-बल्ले हो गई है |koshixpress

दस रुपये तक बिक रहा फॉर्म

नोट बदलने के पहले दिन से जिले के विभिन्न बैंको से लोगो की शिकायत रही कि हर जगह डिपॉजिट फॉर्म व एक्सचेंज फॉर्म की किल्लत है.वही कई बैंको में कुछ ही घण्टो में ये फॉर्म समाप्त हो गये और जिसके बाद शुरू हुई फॉर्म के नाम पर लूट की ऐसी कोशिश जिसमे हर रोज मुनाफा बढ़ता जा रहा है.बात यदि सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल अंतर्गत तीनों प्रखंड की करे तो इन प्रखंड के सभी बैंको और डाकघरों के सामने फोटो स्टेट की अस्थायी दुकान खुल गए है जो दो से पांच रुपये तक फॉर्म बेच रहे है.वही अनुमंडल में सबसे ज्यादा नोट बदलने आ रहे लोगो के भीड़ के प्रकोप से परेशान सिमरी बख्तियारपुर स्टेट बैंक बैंक के ठीक सामने आधा दर्जन फोटो स्टेट की दुकानें बीते एक सप्ताह में सज गई है जो दस रुपये तक फॉर्म बेच मुनाफा कमा रही है |

आईडी प्रूफ की फोटो कॉपी भी दुगुनी कीमत पर

पांच सौ व हजार के नोटों पर पाबंदी के बाद डाकघर व बैंको में भीड़ बढ़ते ही एक्सचेंज फॉर्म के साथ-साथ संलग्न होने वाली आईडी प्रूफ की कॉपी के लिए फोटो स्टेट दुकानदारों ने अपने रेट को दुगुना कर दिया है|सलखुआ मुख्य बाजार में स्थित बैंक ऑफ इण्डिया के पास के फोटो स्टेट दूकानदार पांच से छह रूपये में आईडी प्रूफ की कॉपी करने में लगे रहते है|वही बिजली चले जाने पर फोटो कॉपी करने का शुल्क दुगुना हो जाता है और यदि कोई ग्राहक इस मनमाने शुल्क पर कुछ बोलता है तो सभी दुकानदार गुट बनाकर ग्राहक से बहस करने पर उतारू हो जाते है.फोटो स्टेट कराने पहुँचने वाले लोगो से जब कोशी xpress ने बात कि तो उन्होंने बताया कि प्रशासन इस मुद्दे पर हस्तक्षेप कर रेट तय करे ताकि लोगो को नुकसान ना हो|