बैल की जगह इंसान खीचते है इस सड़क पर बैल गाड़ी !

4830
बैल गाड़ी को जानवर की जगह इंसान खीचते हुए

मुकेश कुमार सिंह : हम किसी फ़िल्म की शूटिंग की तस्वीर आपको नहीं दिखा रहे ।या फिर किसी आदिम जमाने की भी यह तस्वीर नहीं है ।यह अभी के मौजूं हकीकत की ज़िंदा तस्वीर है ।इस तस्वीर को देखिये ।यह तस्वीर खुदी बहुत कुछ बयां कर रही है ।koshixpresskoshixpress

रसूख हो तो इंसान को बैल बनाते देर नहीं लगती

यह तस्वीर सहरसा जिला मुख्यालय से महज आठ किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत सत्तर (वार्ड ऩ 1) की मुख्य सड़क की हैं ।यह वह सड़क है जो सहरसा से सत्तर कटैया को जोड़ती हैं ।यूँ तो इस सड़क पर सालों भर पानी जमा जमा रहता है लेकिन बरसात में इस सड़क की और फजीहत हो जाती है और यह सड़क की जगह लंबी दूरी वाला तालाब बन जाता है ।जरा सी बरसात होने पर यह नजारा बार–बार देखने को मिलता है ।हद तो यह है की इस तालाबनुमा सड़क पर कीचड़ भी काफी है और कीचड़ में फँस जाने की वजह से कोई भी वाहन लेकर गाँव आना नहीं चाहता ।यहाँ तक की बच्चे स्कूल जाने से भी कतराते हैं ।पर आज तक किसी सरकारी अधिकारी ने इस सड़क की मरम्मती के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया है ।बड़े-बड़े नेता और मंत्री इधर से अपना रास्ता मोड़ लेते है ।koshixpress

हालात इंसान को कुछ भी करने को कर देता है मजबूर

बचपन मे हमसब “रास्ते का पत्थर”कहानी पढ़े थे ।ठीक उसी की तर्ज पर रास्ते का पानी और रास्ते का कीचड़ की कहानी यहाँ सटीक बैठती है ।आइये आपको कुछ ऐसी तस्वीर दिखाते हैं | इस सड़क पर किस तरह से इंसानी बैलगाड़ी की सवारी करती हैं ।बताना लाजिमी है की गांव की सड़क 200 मीटर ख़राब है और ब्लॉक जाने की कोई और सुविधा नहीं है,तो, लोगों ने अपनी सुविधा के अनुसार इंसानों को ही बैल बना लिया और मजे से सवारी कर कीचड़युक्त सडक पार करने का एक साधन बना लिया है |koshixpress

आदिम युग की याद हो रही है ताजा /फोटो सोशल मिडिया पर वायरल 

जब इंसान और जानवर का फर्क ना समझे तो,आखिर कौन इस फर्क को समझेगा?हम यह जरूर चाहते हैं की सम्बद्ध विभाग,विधायक और सांसद सहित मंत्रीगण की नजर इस सड़क पर जाए और जल्दी से इस सड़क का कायाकल्प हो |जो भी हो यह तस्वीर जरुर शोशल मिडिया में वायरल हो पर यह तस्वीर देखकर सहज आकलन कर सकते है की सडक किस हाल में है |इस तस्वीर को देखने वाले को समाधान की जगह कोई मजाक ही सूझेगा ।चलते-चलते हम ताल ठोंककर कहेंगे की यह तस्वीर इंसानियत को जद से शर्मसार कर रही है ।

हालाँकि इस इस तरह की बातों की पुष्टि नही हो पाई है |