नोटबंदी : पीएनबी बैंक में एक युवती सहित तीन लोग हुए बेहोश !

2758

नोटबंदी के 16 वां दिन कहीं कम तो कहीं अधिक भीड़
सहरसा/सिमरीबख्तियारपुर : सरकार के द्वारा पांच सौ एवं एक हजार रूपयें के नोट पर बंदी के 16 वें दिन कहीं कम तो कहीं अधिक भीड़ देखी गई। वही पंजाब नेशनल बैंक सिमरी शाखा में भीड़ की वजह से लाईन में खड़े एक युवती व दो पुरूष गर्मी की बजह से बेहोश हो गया।koshixpress

गुरूवार को अनुमंडल क्षेत्र के विभिन्न बैंकों में ग्राहको की भीड़ में काफी कमी देखी गई। सिमरी बख्तियारपुर के स्टेट बैंक शाखा, डाकघर, बैंक ऑफ इंडिया सहित कई बैंको में अब ग्राहक सुगमता से लाइन में खड़े होकर पैसा जमा एवं निकासी करते देखे गये.विगत कई दिनों से इन बैंकों में नोटों के लिए ग्राहकों की काफी भीड़ देखी जा रही थी.इसके कारण लोगों को काफी असुविधा हो रही थी.वहीं गुरुवार से पहले रूपये को जमा कर उसे बदलवाने के लिए सैकड़ों लोग प्रतिदिन अपना सब काम छोड़कर लाइन में घंटों अपनी बारी का इंतजार करते थे.परन्तु, बीते दो दिनों से स्टेट बैंक की सिमरी शाखा सहित विभिन्न बैंको में महिला एवं पुरूषों की अलग-अलग लाइन लगवाकर कार्य किया जा रहा है जिससे ग्राहको संख्या में भारी कम आई है|koshixpress

ग्राहक हसनैन मोहसिन, कुमोद सिंह आंनद, कुणाल सोनी, पंकज भगत, मोनू कुमार आदि ने कहा कि केंद्र सरकार का नोटबंदी का फैसला सही है और आने वाले वक्त में यह लाभकारी साबित होगा.वही सिमरी बख्तियारपुर अंतर्गत रानीबाग में स्थित पंजाब नेशनल बैंक में ग्राहकों की भीड़ कम होने का नाम नही ले रही है.गुरुवार सुबह छह बजे से ही ग्राहकों की भीड़ बैंक के गेट पर जुट गई.वही बैंक खुलने के साथ ही दिन भर बैंक में धक्का-मुक्की का दौर जारी रही.इधर, दिन भर भीड़ की प्रकाष्ठा ऐसी रही की एक लड़की निशा कुमारी सहित दो पुरुष बैंक के लाईन में बेहोश हो गये जिन्हें आनन-फानन में नजदीकी चिकित्सक के पास ले जाया गया|

ग्राहक अमरजीत केशरी, ललन कुमार, गोपाल केशरी, सुदिन भगत आदि ने बताया कि बैंक में पैसे की कमी भीड़ की सबसे बड़ी वजह है.वही भीड़ की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए दिनभर बख्तियारपुर थानाध्यक्ष उमाशंकर कामत दल-बल के साथ जमे दिखे.वही इस मुद्दे पर पीएनबी के शाखा प्रबंधक संजय कुमार यादव ने बताया की करेंसी की कमी है, जैसे-जैसे करेंसी आ रहे है बांटा जा रहा है.उन्होंने कहा कि शुक्रवार से टोकन सिस्टम शुरू की जायेगी ताकि भीड़ नियंत्रित हो।