विभिन्न बैंकों में उमड़ी भीड़ : नये नोट का नही हुआ दीदार,भीड़ को लेकर उपापोह कि स्थिती बनी रही !

2900

सहरसा/सिमरी बख्तियारपुर :  जिले सहित अनुमंडल क्षेत्र के विभिन्न बैंकों में गुरवार को बैंक खुलने से पहले की लोगों की भीड़ उमड़ने लगी थी।दिन भर बैंकों में नोट जमा करने व बदलने को लेकर हौड़ देखी गई।वही अनुमंडल क्षेत्र में किसी भी बैंकों में नये पांच सौ व हजार रूपये के नोट नही पहुंच पाने की वजह से लोगों में मायूसी देखी गई।koshixpress

पंजाब नेशनल बैंक 

सुबह बैंक खुलने के साथ ही अन्य दिनों की भांति लोगो की भीड़ देखने को मिली। तरियामा गांव से एक महिला कलरी देवी ने हाथ में कुछ पांच सौ के नोट लेकर बैंक में अपनी बारी का इंतजार करते हुये बोली की गांव में लोग सब बोला का ई नोट नही चलेगा इसलिये बदलने आ गई।koshixpress

बैंक आफ इंडिया

यहा बैंक में लोगो की भीड़ ज्यादा देखने को मिली बख्तियारपुर थानाध्यक्ष उमाशंकर कामत पुलिस बल के साथ बैंक की भीड़ का जायजा लेते देखे गये। शाखा प्रबंधक तरूण भगत ने बताया की नया नोट नही आया है पांच सौ हजार को छोड़ कर जो नोट बैंक में है वह बदले जा रहे जिसकी सीमा अभी चार हजार तक निश्चित है।

स्टेट बैंक आफ इंडिया 

इस बैंक के बख्तियारपुर थाना के सामने वाले ब्रांच में लोगों की भीड़ दिन भर देखने को मिली।भीड़ को लेकर बीच बीच में झरप भी होती रही। शाखा प्रबंधक संजय कुमार प्रसाद ने पुछे जाने पर बताया की बैंक का यह शाखा सबसे बड़ा है इसलिये यहां भीड़ ज्यादा है। तीन अलग-अलग काउन्टर नगद जमा,निकासी व बदलने के लिये बनाये गयें है।यहां भी नये नोट नही पहुंच पाया है। यही एक शाखा है जहां देर शाम तक रूपये बदलते देखे गये।koshixpress

बैंक आफ इंडिया सलखुआ बाजार शाखा

यहां लोगो की भीड़ सभी बैंको से ज्यादा देखने को मिली।पूर्वी कोशी तटबंध के अंदर सहित अन्य स्थानों से ग्रामीण महिला सहित बड़ी संख्या में लोगो नोट लेकर बदलने पहुंचे ।बैंक में जहग कम रहने की वजह से भीड़ सींढ़ी पर भी देखने को मिली।

ग्रामीण बैंक मुख्य बाजार शाखाkoshixpress

यहां सामान्य दिनों की भांति ही लोगो की भीड़ देखने को मिली।शाखा प्रबंधक जयप्रकाश कुमार ने बताया की मेरे यहां पहले से जो नोट है उसी से बदलने का काम किया जा रहा है।अभी तक नया नोट नही पहुंचा है।उन्होने कहा की उम्मीद है की शनिवार तक नये नोट उपलब्ध हो सकते है। कुल मिला कर अनुमंडल क्षेत्र में दिनभर नोटो को लेकर उपापोह बनी रही।