रसोई गैस के लिए एक पत्रकार का दर्द ……

4038

प्रशासनिक उदासीनता के कारण पीस रहे भारत गैस एजेन्सी के उपभौक्ता

बिहार के सहरसा में ससमय गैस नही मिलने और पिछले कई दिनों से गैस की पर्ची नही काटने से सिमरी बख्तियारपुर के मालगोदाम रोड स्थित शहीद राजनंदन भारत गैस एजेंसी के उपभोक्ताओ ने बुधवार सुबह एजेंसी कार्यालय पर हंगामा किया|उपभोक्ताओ का आरोप था कि पिछले कई दिनों से गैस मिलने मे परेशानी हो रही हैै|वही अन्य उपभोक्ताओं का आरोप था की पुर्जा काटने मे सुस्ती बरती जाती है जिससे हमे काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है|नाराज उपभोक्ताओ ने बताया कि गैस एजेंसी वाले अपनी मनमानी से कार्य करते है और लोकल प्रशासन द्वारा इस पर नकेल ना कसने की वजह से हम परेशान रहते है।

गैस के लिये जब एक पत्रकार का ये हाल तो आमजनों का क्या होगा ?

रसोई गैस ना मिलने से आम-आवाम ही नही बल्कि लोकतंत्र के सजग प्रहरी और आज-जनों की समस्याओं को उजागर करने का कार्य करने वाले पत्रकारों को भी इस आम समस्याओं से किस तरह रूबरू हो रहे है आप जाने |

सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल के हिंदी दैनिक प्रभात खबर के वरिष्ठ अजय कुमार क्या लिखते है खुद पढ़े ……… 

मित्रों,मैं शहीद राजनंदन भारत गैस एजेंसी सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) बिहार का उपभोक्ता हूं|दो दिन पूर्व ही मेरे घर में गैस समाप्त हो गया है|मेरी बेटी लकड़ी व कागज के टुकड़े पर किसी तरह भोजन पकाकर परिवार के सदस्यों को उपलब्ध कराती है|जबकि मेरे परिवार में दो-दो कार्ड का नम्बर लगा हुआ है|एजेंसी द्वारा ससमय गैस उपलब्ध नहीं कराने पर मेरे जैसे करीब पांच हज़ार उपभोक्ता त्रस्त हैं|गैस एजेंसी पर आये दिन हंगामा होते रहता है|जिसकी खबर अख़बारों में हमेशा प्रमुखता से प्रकाशित होती रहती है|बावजूद स्थानीय,जिला प्रशासन.भारत गैस एजेंसी के वरीय पदाधिकारियों व खाद्य आपूर्ति विभाग के कानों पर जूं तक नहीं रेंगती है|आखिर उपभोक्ता कब तक उपरोक्त विभाग के उदासीनता की चक्की में पिसाते रहेगें|इस एजेंसी की व्यवस्था दुरुस्त करवाने में साथियों से अपेक्षित मदद की आशा रखता हूं।