चीनी सामानों के बहिष्कार से कुम्हारों में ख़ुशी,मिट्टी के समानों की बढ़ी मांग !

2478

मधेपुरा/मुरलीगंज : चीनी समान का ज्यादातर वहिष्कार किये जाने के बाद अब गांव के कुम्हार काफी खुश नजर आ रहे है ।कुमारखंड प्रखंड के रहटा गांव निवासी श्याम सुंदर पंडित कहते है कि इस बार के दीपावली में गांव के साथ साथ शहरी इलाकों में भी दिये की मांग होने लगी है |उन्होंने कहा कि जहाँ हमलोग हर वर्ष दो से ढाई हजार दिया मात्र बेच पाते थे वहीँ इस बार कम से कम लगभग सात से आठ हजार दिया बनाने की उम्मीद लग रही है ।koshixpresskoshixpress

गांव के कमहार लोग दिये बनाने की मिट्टी निशिहरपुर से सात हजार रुपया में ट्रेक्टर के टेलर से एक टेलर लाते है फिर मिट्टी में से पत्थर के छोटे छोटे कन को बहार करते है फिर मिट्टी को सुखाने के बाद उसे साँचा में देके दीप बनाते है दीप के बन जाने के बाद उसे धुप में सूखा के फिर जलावन के भट्टी में पकाते हैं उसके बाद बाद वह दीप बन कर तैयार हो जाता है । फिर हमलोग गांव में 80 रूपये सैकड़ा की दर से बेचते हैं।koshixpress

वहीँ मुरलीगंज प्रखंड के रामपुर पंचायत वार्ड नंबर 08 निवासी सविता देवी बताती है कि दिया बनाने में हमलोग को काफी मेहनत करनी पड़ती है दिया बन जाने के बाद हमलोगों को पुरे गांव घूमने के बाद इसे बेचना भी पड़ता है । उन्होंने कहा कि इस बार थोड़ी ज्यादा दीप बनाने की उम्मीद लग रही है । रिपोर्टरिप्पू वर्मा