महापर्व छठ पूजा की तैयारी में जुटे लोग !

3267
सूप एवं डाला बनाते कारीगर

मधेपुरा (संजय कुमार सुमन) : दीपावली एवं काली पूजा के बाद अब लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा की तैयारी में लोग जुट गये हैं। व्यवसायिक प्रतिष्ठानों सहित फुटपाथों पर छठ पूजा के सामग्रियों की दुकान सजने लगी है। सूप-डाला,नारियल,नीबूं,सेब,केला,नारंगी,ईख आदि की बिक्री शुरू हो गई है। बाजार में महंगाई के कारण सामानों की बढ़ी कीमत पूजा की तैयारी पर असर तो डाल रहा है। फिर भी लोग भक्ति भाव से उल्लासपूर्वक पूजन सामग्रियों की खरीददारी में जुट गये हैं। व्रत करने वाली महिलाओं सहित घरों के पुरूष भी मोल मोलाई करने पहुंचने लगे हैं।

सूप एवं डाला बनाते कारीगर
सूप एवं डाला बनाते कारीगर

दूसरी ओर चौसा प्रखंड के विभिन्न स्थानों यथा चौसा बस्ती,कालीस्थान बशैठा,अभिया टोला,लौआलगान,अरजपुर,चन्दसुरी टोला,फुलौत आदि स्थानों पर बसी महादलित बस्ती में पिछले एक पखवाड़े से उत्सवी माहौल है। परिवार के स्त्री,पुरूष सहित बच्चे भी पूरी तरह व्यस्त दिखते हैं। पंकज मल्लिक,सुरेश मल्लिक,अरूण मल्लिक सुबह से बारह बजे दिन तक अपने सारे काम निपटा बांस की कमानी बनाने में जुट जाता है। इस कार्य में उसकी पत्नी एवं बच्चे भी मदद करता है। वे बताते हैं कि यहां हर हाथ बांस को कमाने अथवा उसे मोड़-जोड़ कर विभिन्न आकार देने में व्यस्त है।

छठ पूजा के लिए मकोर अथवा चाभ बांस का उपयोग किया जाता है। एक बांस में 15 सूप अथवा 25 सूपती बन पाती है जबकि समूचे बांस से पांच बड़े या सात छोटे दउड़े बनाये जाते हैं। वे बताते हैं कि बांस की औसत कीमत डेढ़ से दो सौ रूपये है। इसका यह कारोबार सालों भर चलता रहता है लेकिन छठ के समय इसकी व्यस्तता बढ़ जाती है।