5100 दीपों की रोशनी से जगमगा उठा माँ काली का दरवार !

3157

श्रीराम कथा के अंतिम पल में दीप प्रज्वलित कर मनाया गया दीपावली

भागलपुर/नवगछिया  (मुकेश कुमार मिश्र ) :प्रसिद्ध महा श्मशानी उग्रकालिका सिद्धिशक्तिपीठ मंदिर बैसी – जहाँगीरपुर में आयोजित श्रीशतचंडी यज्ञ सह श्रीराम कथा ज्ञान महायज्ञ में श्रोतागण बह रहे भक्ति की गंगा में गोता लगा रहे हैं। रविवार की रात्रि  अद्भुत छटा देखने को मिला। परमहंस स्वामी आगमानंद जी महाराज के निर्देशन पर 5100 दीपों से महा श्मशानी उग्रकालिका सिद्धिशक्तिपीठ मंदिर को सजाया गया। दीपों की रोशनी से माँ काली का दरवार जगमगा उठा। लोगों ने मंदिर परिसर में दीपावली मनाया ।koshixpress

इलाके के बुजुर्ग लोग बताते हैं कि इस मंदिर के प्रागंण में शाम के बाद किसी की हिम्मत नहीं होती थी  प्रवेश करने का। आज स्वामी जी के असीम कृपा से रात भर हजारों हजार की संख्या में श्रोतागण डटे हुए हैं। ओर स्वामी जी के अमृत वाणी का श्रोतागण रस पान कर रहे हैं ।  परमहंस स्वामी आगमानंद जी महाराज ने अपने सम्बोधन में कहा कि माँ काली की असीम कृपा से इलाके की सारी बाधाएँ दुर हो जाएगी। वर्षों से इस महायज्ञ का आयोजन का  इंतजार था जो सभी के सहयोग से सम्पन्न हो रहा है।koshixpress

इलाके के प्रवचन कर्ता एवं आकाशवाणी से जुड़े हुए संगीत कलाकारों ने बहुमूल्य समय देकर महायज्ञ में एक अहम भूमिका निभाई जो प्रशंसनीय हैं। एक साथ श्रीशतचंडी यज्ञ सह श्रीराम कथा ज्ञान महायज्ञ एवं अखंड धारापाठ हरिनाम संकीर्ण तथा रामचरितमानस पारायण का कार्यक्रम सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। परमहंस स्वामी आगमानंद जी महाराज ने  श्रीराम कथा के अंतिम चरण में 14 वर्षों के वनवास के बाद भगवान श्रीराम के  आगमन एवं भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक  प्रसंग पर विस्तार पूर्वक से चर्चा किये। उसी समय उपस्थित लोगों ने दीप प्रज्वलित कर दीपावली मनाया।

मालूम हो कि लगातार दो दिनों तक सम्पूर्ण रात तक स्वामी जी के अमृत वाणी का श्रोतागण ने रस पान किया। प्रत्येक दिन बारह घंटे तक प्रवचन का कार्य चलता रहा। दर्जनों पंडित विशेष पूजन कार्य में लगे हुए थे। प्रवचन के साथ झांकी चित्रण चर्चा का विषय बना रहा। विशेष अतिथि को अंग वस्त्र से सम्मानित किया गया। वहीं नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार महायज्ञ में पहुंचें ओर स्वामी जी से आशीर्वाद प्राप्त कर मंच को सम्बन्धित किया।