मैनेज कर चलता है फरकिया क्षेत्र का विद्यालय !

3403

दियारा में शिक्षा व्यवस्था चौपट विद्यालय में लटकता है तालाkoshixpress

सहरसा/सिमरी बख्तियारपुर : अनुमंडल क्षेत्र के सलखुआ प्रखंड अंतर्गत पूर्वी कोसी तटबंध के भीतर कमोबेश सभी विधालय पाठशाला से गोशाला में तब्दील हो गया है। यहां के विधालय का ये हाल है की सब कुछ मैनेज कर चलता है चाहे वह पढ़ाई हो या एमडीएम योजना,कोई देखने वाला नही है। शुक्रवार को मध्य विधालय चिड़ैया में दिन के ग्यारह बजे एक भी बच्चे विधालय में नजर नही आये एक महिला शिक्षिका सहित तीन शिक्षक विधालय में नजर आये विधालय प्रधान का कहीं अता पता नही था। एक टू सीआसी भवन अधुरा बना है उपरी की मंजिल लिल्टर तक बना है नीचे के रूप यू ही खुला है। एक पुराने भवन के वरामदे पर एमडीएम बनाने के लिये दो चुल्हा बना है जिसे देखने से पता चलता है की महिनों से इस चुल्हा पर खाना नही बना है। तकरीबन इस विधालय में छ:सौ नामांकित बच्चे है। ऐसा नही है की ये हाल सिर्फ इसी विधालय का तकरीबन सभी विधालय ऐसे ही कागजों पर चलते है। बताते चलें कि मध्य विद्यालय चिड़ैया के पुराना भवन में चिड़ैया ओपी चल रहा है। कि मार्च 2014 में जिलाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी व अन्य अधिकारी के निरीक्षण में विद्यालय में भी यह विधालय बंद पाया मिला था लेकिन फिर भी स्थिती में कोई सुधार नही हुआ।koshixpress

शिकायत हुई पर कार्रवाई नगण्य

ग्रामीणों ने बताया कि कई बार विभाग के उच्च अधिकारी को स्कूल बंद रहने व विद्यालय विकास मद कि राशि बंदरबांट करने कि शिकायत करते-करते थक चुके हैं। लेकिन विद्यालय प्रधान व सहायक शिक्षक के विरूद्ध कार्रवाई नहीं होती है। जिस कारण शिक्षक अपने मर्जी के अनुकूल कभी कभार स्कूल तक पहुंचते हैं। विद्यालय भवन भी वर्षो से अधूरा पड़ा हुआ है।

क्या कहते है ग्रामीण

राजेन्द्र मोची, विनोद भगत, विद्यानन्द भगत, संजय भगत, अजय भगत, महेन्द्र चौधरी, सत्तो सादा आदि ने विद्यालय बंद रहने व विद्यालय मद कि विभिन्न राशि बंदरबांट करने कि शिकायत कई बार उच्च अधिकारी से की है पर कोई कार्यवाही विभाग के वरीय अधिकारी नही किये उनलोगो का कहना था साहब यहां सब कुछ मैनेज है।