मानवता शर्मसार : ढ़ाई गज कफन भी नसीब नही हुआ ट्रेन से कटे अज्ञात को !

4035

मानसी जीआरपी ने बिना कफन ही प्लेटफार्म पर रखा शव

सहरसा/सिमरी बख्तियारपुर(ब्रजेश भारती) : रविवार की सुबह सहरसा-मानसी रेलखंड के सिमरी बख्तियारपुर रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के आगे कुद एक अज्ञात अधैड़ ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।koshixpress

करीब पौने आठ बजे के करीब सहरसा से पटना जाने वाली कोशी एक्सप्रेस ज्योहि इस स्टेशन से खुली एकाएक सभी की नजर ठीक स्टेशन अधीक्षक के केबिन से चंद कदमों की दुरी पर एक नंबर रेलवे लाईन पर पड़ी जहां एक अधैड़ ने पटरी पर अपना आधा शरीर का हिस्सा रख इस दुनिया को सदा के लिये अलविदा कह चुका था। आसपास के लोग उस मृतक आत्मा बचे शरीर को पहचानने की कोशिश की पर किसी ने उस शव को पहचान नही सका।koshixpress

अंतत: घटना की सुचना मानसी जीआरपी पुलिस को दी गई।रेल पुलिस आई शव को एक स्ट्रेचर पर रख उसे प्लेटफार्म पर रख दिया आते जाते लोग शव को देख पहले पहचानने की कोशिश करता पर जब पहचान नही होती तो जेब में हाथ डाल दो चार रूपये शव पर चढा़ आगे निकल जाता। सुबह से लेकर शव को पोस्टमार्टम के लिये मानसी ले जाने के दौरान आज के इस युग में रेल जीआरपी पुलिस को कौन पुछे किसी आम जन ने उस अज्ञात अधैड़ के शव पर ढ़ाई गज कफन देना मुनासीब नही समझा।

पैर में जुता कमर में लुंगी पहने,उजला गंजी,सर्ट के उपर कम किमत के जैकेट पहने वह अधैड़ तो पटरी पर अपना शरीर रख दुनिया को अलविदा कह दिया लेकिन अपने पीछे सबसे बड़ा सवाल छोड़ गया कि क्या मनुष्य इतना श्वार्थी हो गया है कि एक अज्ञात शव को कोई ढ़ाई गज कफन भी खरीद कर नही डाल सकता था ?