STF आपरेशन का भय अभी तक दियारा में कायम !

3314

एसटीएफ और रामानन्द यादव के गिरोह के बीच गुरुवार-शुक्रवार की मध्य रात्रि सलखुआ थाना क्षेत्र अंतर्गत चिड़ैया ओपी के बेलाही गाँव में हुए मुटभेड़ के बाद से पूरे इलाके में कई तरह के चर्चाओं का बाजार गर्म है।वही घटना के तीन दिन बीतने के बावजूद आज भी एसटीएफ द्वारा गांव में मचाये गये उत्पात से बैलाही गांव सहित तटबन्ध के अंदर में भय का माहौल व्याप्त है।

फाइल तस्वीर
फाइल तस्वीर

रामानन्द बनाम एसटीएफ

कोसी दियारा में हमेशा से पुलिस व एसटीएफ के लिए सिर दर्द बने रामानंद यादव लगातार एसटीएफ के निशाने पर रहा.गुरुवार की रात भी एसटीएफ रामानंद की गिरफ्तारी को लेकर ही जाल बिछा चुकी थी परंतु अँधेरा का लाभ उठा कर रामानन्द एसटीएफ के चंगुल में जाने से बच गया|मिली जानकारी के मुताबिक खगड़िया जिला अंतर्गत अलौली के पैक्स अध्यक्ष राजेश कुमार की हत्या इसी वर्ष जुलाई माह में अलौली में ही गोली मारकर कर दी गयी थी, इस मामले में कुख्यात रामानंद यादव नामजद आरोपी है|सूत्रों के अनुसार, राजेश व रामानंद के बीच 35 बीघा जमीन को लेकर विवाद चल रहा था और माना जा रहा है कि इसी विवाद के कारण राजेश की हत्या कर दी गयी. हत्या के बाद से ही खगड़िया पुलिस व एसटीएफ रामानंद यादव की तलाश शुरू कर दी थी.परन्तु, दियारा की भौगोलिक स्थिति की वजह से रामानन्द हमेशा एसटीएफ के चंगुल से दूर रहा।

फाइल तस्वीर
फाइल तस्वीर

जीपीएस की मदद से गांव पहुंचा एसटीएफ 

जानकारी मुताबिक बीते कई दिनों से अपने गुप्तचरों से यह जानकारी मिल रही थी कि रामानंद यादव गांव में ही है|रामानन्द की मौजूदगी की पुष्टि होने के बाद आई जी ऑपरेशन के नेत्तृत्व में टीम बना ऑपरेशन को अंजाम देने का प्लान बना|तत्पश्चात टीम खगड़िया के रास्ते दो नदियों को गुरुवार रात लगभग बारह बजे जीपीएस के माध्यम से पार कर खगड़िया जिला से सटे चिड़ैया पहुंची|चिड़ैया पहुँचने के उपरांत गुप्त तरीके से एसटीएफ रामानन्द यादव के बेलहा स्थित बासा के निकट पहुँच गई.जिसके बाद एक साथ पांच दर्जन एसटीएफ जवानो ने गांव के सभी घरों की चेकिंग शुरू कर दी.इस दौरान महिला-पुरुषों की पिटाई की भी बात ग्रामीण बता रहे है.हालाँकि, इस कार्रवाई में रामानंद यादव तो भागने में कामयाब रहा परंतु एसटीएफ ने हथियार की बरामदगी सहित अन्य की गिरफ्तारी में सफलता पा ली।

गेहूं के साथ घून पिसा गया

शुक्रवार अहले सुबह पटना से आई एसटीएफ के द्वारा की गई गिरफ्तारी में गिरफ्तार हुए रामानन्द यादव के पुत्र   रौशन यादव के बाद से तटबन्ध के अंदर में मिली-जुली प्रक्रिया आ रही है.जानकारी मुताबिक रामानन्द यादव के तीन पुत्र है.जिनमे धर्मवीर यादव, हिम्मत यादव और रौशन यादव शामिल है.धर्मवीर यादव ने राजनीती में कदम जमा लिया है.वही हिम्मत और रौशन बिहार से बाहर पढ़ाई करते है.गुरुवार रात्रि हुए मुठभेड़ में एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार किए गये रामानंद यादव का पुत्र रौशन देहरादून के एक इंजीनियरग कॉलेज में पढ़ता है.ग्रामीणों ने बताया कि वह छठ पूजा में गांव आया था.परन्तु, नोट बंदी के वजह से उसके उत्तराखण्ड लौटने में विलम्ब हो गया।