बिजली विभाग का कारनामा : चाय दुकानदार को दिया लाखों का झटका !

2864

यु तो बिजली की स्थति में काफी कुछ सुधार हुआ है लेकिन उपभोगताओ को इसकी बिलिंग व्यवस्था ह्रदय रोग (हार्ट अटैक) उत्त्पन करने वाली है,किसी ना किसी कारणों से चर्चित बिजली विभाग का एक और कारनामा सामने आया है. इस बार बिहार के सहरसा में  बिजली वितरण कम्पनी ने  चाय दुकान करने वाले एक व्यक्ति को  203 यूनिट बिजली उपभोग करने की एवज में 5 लाख 82 हजार 191 रुपये का बिल भेजा है |

इतनी बड़ी राशि का बिल मिलने के बाद सहरसा मुख्यालय के गाँधी पथ वार्ड न०- 08  सत्संग मंदिर के पास के निवासी दिपक दास की नींद उड़ गई है. हैरत की बात यह है कि दिपक का मकान में मात्र 3 कमरे  है और उसके घर में मात्र दो टीवी, तीन पंखे और पांच एलईडी बल्ब जो बिजली बिभाग द्वारा दिया गया था  हैं और उसने 28 मई 2016 को रसीद संख्या 889752 के माध्यम से 1149 रुपये का बिजली बिल भर जमा किया था |

दिपक दास ने बताया कि उसके मकान में उसके पिता दुलारचंद दास के नाम से बिजली का मीटर लगा हुआ है और विभाग की तरफ उसका कोई बिल बकाया नहीं है |दिपक का कहना है कि 28 मार्च 2016 का बिजली बिल 3159 रूपए का आया था |इसके बाद 21 अगस्त को 5 लाख 81 हजार 350 रूपए का उसके घर पर बिजली का बिल आया था | इसकी शिकायत लिखित में बिजली बिभाग को दी गई लेकिन उसके बाद पुनः सितम्बर माह में 5 लाख 82 हजार 171 का बिजली बिल आ गया है | हालंकि बिजली बिल देने वाले ने यह कहकर वापस बिल ले लिया की बिल गड़बड़ है सुधार होने के बाद दिया जायेगा |रविश कुमार ने बताया कि बिल यदि 5 अक्टूबर के बाद जमा नही करते है तो यह बिल बढ़ कर 5 लाख 90 हजार 788 रूपए तय की गई है |

दिपक ने बताया कि वो गरीब आदमी है और गाँधी पथ पोखर के पास चाय की दुकान  करता है और बिल मिलने के बाद कई बार विभाग के चक्कर लगा चुका है लेकिन बार-बार गुहार लगाने के बावजूद भी अधिकारी उसकी समस्या का समाधान करना तो दूर, उसकी बात तक सुनने को तैयार नहीं है |