जल निकासी की व्यवस्था नही होने के कारण दर्जनों लोगों के घर में घुसा पानी !

3100
लोगों के घर में घुसा पानी

संजय कुमार सुमनबीती रात हुई तेज बारिश से सम्पूर्ण जिले में जल जमाव की समस्या उत्पन्न हो गई है ।जिससे लोगों का जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है ।जल निकासी की व्यवस्था नही हो पाने के कारण दर्जनों लोगों के घर में पानी घुस गया है।जो बाढ़ के दृश्य से कम नही है।

चौसा बस पड़ाव की स्थिति
चौसा बस पड़ाव की स्थिति

बारीश ने सब के घर को डूबाया

बारिश से सबसे विषम स्थिति चौसा प्रखंड की है।चौसा पश्चिमी पंचायत के वकील टोला में सड़क पर घुटना भर पानी जमा हो गया गया है।जल निकासी की सुविधा नही होने के कारण उपेंद्र भगत,छोटेलाल मंडल,धीरज कुमार के घर में एवं राजू पटवारी के दुकान में पानी घुस गया है।स्थानीय लोग बास बल्ला लगा कर प्रदर्शन कर रहें हैं।इतना ही नही लोगों ने बीडीओ मिथिलेश बिहारी वर्मा और सीओ अजय कुमार के सरकारी आवास पर पहुंच कर जल निकासी की मांग करते हुए हो हंगामा किया।लोगों का कहना है कि सड़क का निर्माण छः माह पूर्व ही किया गया।सड़क निर्माण के समय हमलोगों ने अनियमिता बरते जाने को लेकर विरोध भी किया था लेकिन संवेदक अपनी मनमानी से सड़क बनाते रहे।

वकील टोला सड़क पर पानी
वकील टोला सड़क पर पानी

लोगों की मांग पर बीडीओ और सीओ ने वकील टोला पहुंच कर वस्तुस्थिति से अवगत हुए और शीघ्र ही जल निकासी की व्यवस्था करने का आश्वसन दिया। इसके अलावे गांधी चौक से थाना चौक,चौसा मस्जिद से आदर्श टोला,कृष्ण टोला से तिल्लारही,बशैठा काली स्थान से फुलकिया टोला देते हुए चंदसूरी टोला मोड़,सहोराटोला से शंकरपुर,शंकरपुर से लौआलगान,लौआलगान से खोपकरिया तक की ग्रामीण सड़क का हाल बेहाल है।

रेणु कुमारी जदयू प्रखंड अध्यक्ष
रेणु कुमारी जदयू प्रखंड अध्यक्ष

घर आँगन में पानी घुसने से लोगों को सोने और खाना बनाने पर आफत आ गई है।लोग संकट में है। इसके अलावे चौसा से अरजपुर पथ,चौसा से फुलौत सड़क की स्थिति अत्यंत ही दयनीय हो गई है।सड़क पर चार से पांच फीट गढ्ढा हो गया है।जिसमें बारिश का पानी जमे होने से गढ्ढा का पता नही चलता है और लोग हथेली पर जान रख पर चलते है।कई बार तो ये होता है कि गाड़ी गढ्ढा में ही फंस जाता है।लोग जान को जोखिम में रख कर “जय हनुमान जी की जय,जय बजरंग बली की जय” आदि भगवान का नाम लेकर गाड़ी को किसी तरह निकलते हैं। निकल गये तो ठीक नही तो परेशानी झेलने को तैयार रहिये।इन्ही सड़क होकर सैकड़ों बच्चे कोचिंग या कालेज जाते आते हैं।कब कौन सी घटना हो जाय कहा नही जा सकता है।जर्जर सड़क होने के कारण चौसा की सभी सड़क को खूनी सड़क के नाम से जाने जाने लगा है।

ज़दयू की चौसा प्रखंड अध्यक्ष रेणु कुमारी ने पूर्व मंत्री नरेंद्र नारायण यादव से चौसा के सभी जर्जर सड़क को यथाशीघ्र नये सिरे से निर्माण कराये जाने की मांग की है। उन्होने बताया कि उदाकिशुनगंज से भटगामा फोर वे तक एसएच 58 का डीपीआर तैयार कर लिया गया है शीघ्र ही निर्माण कार्य चालू होगा।