नारी के बिना सुन्दर सामाज का निर्माण नहीं – हरिंद्रानंद जी महराज !

3514

 गजेन्द्र कुमार : अध्यात्मिक शिव शिष्य परिवार के तत्वाधान में रविवार को झारखण्ड के रॉची (धुवाँ )शाखा मैदान में एक दिवसीय शिव शिष्य संप्रवाह नारी जागरण एवं सामाजिक उत्कर्ष संगोष्ठी का आयोजन किया गया |शिव शिष्य परिवार के साकार आदर्श दीदी राजमणि नीलम आनंद के तस्वीरों पर माला अर्पण कर हारा भोला -हारा शिव व जागरण भजन के साथ किया गया |koshixpress

इस कार्यक्रम में भारत के ग्यारह राज्यों से काफी संख्याओं में गुरू भाई एवं गुरू बहनों ने भाग लिए | शिव शिष्य परिवार के अधयक्ष -अरचित आनंद ने नारी जागरण एवं सामाजिक उतकरस पर प्रकाश डालते हुए कहा शिव शिष्यता के छाव में ही नारी जाग्रिति हुआ हैं और होगा जो महिला कल तक घर से बाहर नहीं निकलता था आज वह देश के विभिन्न राज्यो में घर-घर जा कर एक-एक लोगों से अपने शिव गुरू की बात करते हैं किया वह नारी जागरण नहीं हैं |koshixpress

वहीं इस जगत में शिव शिष्यता के निव रखने वाले साहब श्री हरिंद्रानंद ने कहा – मानव का मन संसारिक संक्रीनता से भरा है | जब तक मानव के जीवन में अध्यातमिक गुरू शिव नहीं होंगे तब तक नारी जागरण नहीं हो सकता हैं आज शिव शिष्यता में जाती-पाति ,छुत- अछूत, वयवहार- बिचार, चाल- चलन , सब कुछ में बदलाव हो गया हैं नारी के बिना सुनदर सामाज का निर्माण नहीं कर सकते | इस कार्यक्रम में पटना से डॉ अमित आंनद,बहन वरखा ,बहन अनिता , भैया मोनू सहित सैकड़ों शिव शिष्यों उपस्थित थे |